Sardhana of Begum Samru

सरधना – शेरदिल बेगम की रियासत में एक दिन गुज़रे वक़्त के रोमांस और रोमांच से बचा जा सकता है क्या? आपकी राहेगुज़र दिल्ली से यही कोई 100 किलोमीटर दूर सरधना हो तो यकीनन आपका जवाब नहीं ही होगा! चांदनी चौक के बाज़ार-ए-हुस्न में ठुमकती कश्मीरी फरज़ाना से जंग के मैदानों में हुंकार भरती बेगम…

Ayodhya – then and now

अयोध्या में 30 घंटे अयोध्या का जिक्र इससे पहले मेरी यात्राओं में कभी नहीं हुआ है। अयोध्या के नाम ही के साथ जो भारी-सा परिप्रेक्ष्य जुड़ गया है, बिन जाने, बिन देखे ही जो सैंकड़ों किस्म की धारणाएं बन गई हैं, या देखने-जानने के बाद जो समझ पैदा हो गई है, विवाद खड़े हो गए…

In the times of Rowling’s Harry Potter let’s take a turn to Khurja’s Potters

चिमनियों के शहर में खुर्जा से दोबारा वास्ता बना था करीब डेढ़ दशक बाद। पहली बार जब देखा तो सिर्फ शॉपिंग के अड्डे के तौर पर, जहां से सस्ते में ढेरों सामान खरीद लायी थी – सेरेमिक पॉट्स से लेकर सूप बोल्स, प्लेटें, कॉफी मग, कप, टी-पॉट और भी जाने क्या-क्या। फिर वक़्त की बेरहमी…