Discovering the other side of ‘Bombay’

बेचैन शहर के सीने में सुकून की लकीरों को पकड़ना फोर्ट से बांद्रा के होली फैमिली अस्पताल तक काली-पीली टैक्सी की सवारी तय की। बारिश से नहायी, भीगती-भागती सड़कों पर टैक्सी दौड़ रही थी, मैंने आजू-बाजू की खिड़कियां खोल रखी थीं .. ताकि फोर्ट की गोदी में भरे पानी की भाप ने जिन बूंदों का…

क्यों Savaari की सवारी रास आ गयी #मस्तMaharashtra में

A review of Savaari Car Rental just to remind ourselves that we need to pat on the back of a good service provider (इन दिनों एक अजब दौर चला है, हम सिर्फ उन सेवाओं/उत्पादों का रिव्यू करते हैं जो मुफ्त पाते हैं, लेकिन अक्सर उनके बारे में तारीफ के दो शब्द लिखना भूल जाते हैं या लिखने…

How the heritage status of a hotel in amchi Mumbai tricked me

Free wi-fi and only wife in the room! बंबई overwhelm करता है, अपनी खूबसूरती या बदसूरती या अपने पेशेवर अंदाज़ या अपनी बेफिक्री और बेताबियों से नहीं बल्कि कदम-कदम पर बदलते अपने तेवर से। शहर भर को पैदल या काली-पीली टैक्सियों से नापते हुए जो छवि बुनी थी मैंने वो ‘too-busy-to-care-what-you-do’ जैसी थी, लेकिन इसे दरकते हुए…