Glimpses of Himalayan heritage by train

Book Review – “The Kangra Valley Train” by Niyogi Books ‘द कांगड़ा वैली ट्रेन’  लेखिका — प्रेमला घोष | प्रकाशन — नियोगी बुक्स | कीमत — 795/रु | श्रेणी — यात्रा लेखन | पन्ने – 135 जो असल वाली यात्राएं नहीं करते या नहीं कर सकते वो भी ‘आर्मचेयर’ यात्री तो बन ही सकते हैं। और अगर उनके लिए…

Post card from Kangra Valley – Land of Gods, Kings & Himalaya

कांगड़ा घाटी – टूरिज्‍़म के रटे रटाए मुहावरे से परे इन घाटियों से गुजर जाती है कुछ सड़कें और अठखेलियां करती पटरियां इस कुहासे की ओट में गुम हैं धौलाधार पर्वतमालाएं कांगड़ा घाटी में आज भी अपनी हस्‍ती संभाले खड़ा है कांगड़ा किला जो संभवत: पूरे हिमालय क्षेत्र का सबसे बड़ा और सबसे पुराना किला है …