Chardham Yatra – Retracing the footsteps of my ancestors

चार धाम यात्रा — पुरखों की ज़मीन पर अध्यात्म के सबक पहाड़ मुझे जब-तब बुलाते हैं और उनकी पुकार को अनुसना करना जब नामुमकिन हो जाता है तो मैं अपने पुरखों की ज़मीन की तरफ चल देती हूं। जाने क्यों मुझे हमेशा महसूस होता है कि वो आवाज़ किसी उस पुरखे ने लगायी है जिनकी…

An ode to 20th century intrepid English travel writer Penelope Chetwode

खनाग में घुमंतु पेनेलपी चेटवुड की दुनिया जलोड़ी जोत पर बर्फ के रोमांस ने हमें लंबा उलझा लिया था। सरेउलसर झील और रघुपुर किले की तरफ जाने वाली राह भी सफेदी में गुम हो चुकी थी। लंबे, घने चीड़ों को चीरकर जंगल से एक घुमावदार रास्ता उतरान और चढ़ाई के खेल खेलता हुआ करीब 2…

3 Days in the jungles of Asia’s first national Park

हम, तुम और कार्पेट साहब कॉर्बेट नेशनल पार्क के ज्यादा लोकप्रिय टूरिस्ट ज़ोन्स झिरना या ढिकाला से गुजरने की जिस जिद को लेकर हम घरों से निकले थे वो भी हमारे रेसोर्ट के गाइड से कुछ पलों की बातचीत के बाद कभी की काफूर हो चुकी थी। अगले दिन सवेरे पांच बजे पार्क के सीताबनी…

Kalpa at 2758 m is a tiny fairy land

कल्पा में आपके कमरे से नज़ारा अगर ऐसा हो तो? पहले तो मन ललचाएगा अखरोट तोड़ने का, चाहे वो अभी कच्चे सही? और उस लालच से उबर गए तो सामने हाथ बढ़ाकर किन्नर कैलास रेंज को छू आने का! कुछ भी नहीं कर सके तो पूरी शाम बस एकटक उन बर्फीले पहाड़ों को देखने में…

Towards the soaring land and passes of Trans Himalaya – a journey to Lahaul & Spiti

 किन्नौर के परीलोक से कुंजुम—रोहतांग के खौफनाक मंज़र तक! दुनिया की सर्वश्रेष्ठ सड़क यात्राओं में शुमार है शिमला से किन्नौर—स्पीति—लाहुल होते हुए रोहतांग दर्रे के उस पार बसे मनाली तक का सफर। अब सर्वश्रेष्ठ के मायने कुछ भी हो सकते हैं, मगर मैं साफ कर दूं कि मेरे लिए यह आज तक का सबसे ज्यादा…

Want to sing winter symphony, head to Kashmir!

कश्मीर है फिर से मेज़बानी के लिए तैयार, गुलमर्ग ने भेजा है बुलावा श्रीनगर हवाईअड्डे तक पहुंचने की जद्दोजहद के बीच भी मुझे एक अदद कांगड़ी खरीदने की सुध थी। दरअसल, लंबे इंतज़ार और बेताबियों के बाद बीते हफ्ते ठीक उस रोज़ सुबह से ही हल्का हिमपात गुलमर्ग में शुरू हो गया था जब मुझे…

Regulation of pilgrimage in Himalayas – Truly Himalayan task

सफर में रहने का सिलसिला जारी है और देश के दूर-दराज के ठिकाने मेरी ‘बकेट लिस्‍ट’ को लगातार बड़ी और भारी बना रहे हैं। इस साल के शुरू प्रयाग में महाकुंभ में डुबकी क्‍या लगायी जैसे आस्‍था का साल शुरू हुआ। अगले दो महीने में ही कैलास मानसरोवर का बुलावा हाथ में आ गया। भारत…

Post card from Kangra Valley – Land of Gods, Kings & Himalaya

कांगड़ा घाटी – टूरिज्‍़म के रटे रटाए मुहावरे से परे इन घाटियों से गुजर जाती है कुछ सड़कें और अठखेलियां करती पटरियां इस कुहासे की ओट में गुम हैं धौलाधार पर्वतमालाएं कांगड़ा घाटी में आज भी अपनी हस्‍ती संभाले खड़ा है कांगड़ा किला जो संभवत: पूरे हिमालय क्षेत्र का सबसे बड़ा और सबसे पुराना किला है …

an aerial view of Zanskar near Leh, Ladakh

Being a compulsive traveler, air travels are part of my life now, but it is extremely rare that I look forward to my journeys in those claustrophobic, metal boxes .. barely managing to stretch my limbs and imagination! But, New Delhi to Leh (Ladakh) is an exception and one must be enthusiastic enough to ask…