What you should know before travelling into the thin air – winter in Ladakh

सर्दीले दिन-रात और लद्दाख का सफर कैसा होगा जनवरी में लेह का नज़ारा ? क्या ठहरने का ठीक-ठाक मुकाम मिलेगा? मुझ वेजीटेरियन जीव को खाना नसीब होगा? पानी मिलेगा? क्या कड़ाके की शुष्क ठंड हम महानगरों में पले-बड़े जीवों को बर्दाश्त होगी? और क्या लद्दाखी जमीन पर बेरहम सर्द दिन-रात के हिसाब से हम एक्लीमटाइज़…

How to adapt to Ladakh climate/Acclimatisation

लेह है अगर आपकी अगली पर्यटन मंज़िल तो एक्लीमेटाइज़ेशन (दशानुकूलन) को बखूबी जान लें!! ’लेह‘ नाम के साथ एक्लीमेटाइज़ेशन शब्द जैसे आत्मा के स्तर तक पर पिरोया गया है। समुद्र तल से करीब 11,500 फुट की ऊंचाई पर बसे लेह शहर आना हो तो एक्लीमेटाइज़ेशन के बारे में पूरी जानकारी पहले से हासिल करना न सिर्फ…