Discovering the other side of ‘Bombay’

बेचैन शहर के सीने में सुकून की लकीरों को पकड़ना फोर्ट से बांद्रा के होली फैमिली अस्पताल तक काली-पीली टैक्सी की सवारी तय की। बारिश से नहायी, भीगती-भागती सड़कों पर टैक्सी दौड़ रही थी, मैंने आजू-बाजू की खिड़कियां खोल रखी थीं .. ताकि फोर्ट की गोदी में भरे पानी की भाप ने जिन बूंदों का…

Haveli Dharampura – tête-à-tête with heritage in the by lanes of Old Delhi

बीते वक़्त की एक मिसाल – हवेली धरमपुरा शहरों को अक्सर आदत होती है सब कुछ निगल जाने की, और नया भूगोल बनाते हुए सबसे पहले वो अपना अतीत निगलते हैं। लेकिन कुछ ईंटे पुरानी बची रह जाती हैं, कुछ गलियां संभाल ली जाती हैं और कुछ पुराने आंगन भी वक़्त रहते या तो बचा लिए…

3 Days in the jungles of Asia’s first national Park

हम, तुम और कार्पेट साहब कॉर्बेट नेशनल पार्क के ज्यादा लोकप्रिय टूरिस्ट ज़ोन्स झिरना या ढिकाला से गुजरने की जिस जिद को लेकर हम घरों से निकले थे वो भी हमारे रेसोर्ट के गाइड से कुछ पलों की बातचीत के बाद कभी की काफूर हो चुकी थी। अगले दिन सवेरे पांच बजे पार्क के सीताबनी…

Off Beat Summer Destinations in India

गर्मियों में इस बार चलें कहीं और पुराने हिल स्टेशन अब घिसे–पिटे कहलाने लगे तो नए दौर के पर्यटकों ने अपनी फितरत के हिसाब से कुछ नए स्थलों की तलाश की है। युवाओं के कदम कुछ नई मंजिलों की तरफ बढ़ चले हैं। ऐसे ही कुछ नए, आॅफबीट समर डेस्टिनेशंस यानी गर्मियों में नए पसंदीदा…

where to travel in 2015

2015 ला रहा है कुछ हटकर, कुछ खास सैरगाह   बीतते साल के साथ एक बात जो जाते-जाते खुश करती गई वो यह कि 2015 में कई लंबे वीकेंड मिलने जा रहे हैं और उन लोगों के लिए यह खबर वाकई खास है जो घरों के सुकून को छोड़कर दूर किसी मंजिल को तलाशने का…