Road To Mandlay and now beyond .. to Thailand

एशियन हाइवे नंबर 1 पर अब दौड़ा जा सकता है मणिपुर से थाइलैंड तक। यही हाइवे आगे इस्तांबुल और टोक्यो तक जाता है, ​बस बीच में कुछ लिंक जुड़ने बाकी हैं। देर-सबेर दिल्ली से टोक्यो तक भी सड़कों की राह पहुंचा जा सकेगा, इसी भरोसे के साथ करीब दो साल मैंने इंफाल से तामू तक की…

In the land of Mt Khangchendzonga

कंचनजंगा और आर्किड के देश में सिक्किम में वो मेरा पहला दिन था और दीवार पर परम शांत-सौम्य मुद्रा में दिखे बुद्ध जैसे कह रहे थे कि अगले कुछ दिन परम शांति में बीतेंगे। राजधानी गैंगटोक की सड़कों पर ट्रैफिक की अफरातफरी तो यों भी नहीं थी और उस सड़क किनारे खड़ी किसी दीवार पर…

Gangtok – the city beautiful engages you through its graffitis

गैंगटोक – एक शहर जिसकी सड़क भी करती हैं बातें नॉर्थ ईस्ट के यकीनन सबसे खूबसूरत राज्यों में से एक है सिक्किम। इसलिए नहीं कि वहां सरकारी स्वच्छता अभियान जोर-शोर से चलता है, बल्कि इसलिए कि लोगों को अपने शहर से प्यार है, उस पर फख्र है। वरना इन ग्राफिति के मायने क्या हो सकते…

The Naga Hills are calling! हॉर्नबिल फेस्टिवल के बहाने नागा संस्कृति का दीदार

What – Hornbill Festival  When – 1 to 10 Dec 2014 Where – Kisama Heritage Village                 (10 Kms from Kohima) Nagaland अगर आप भी यही सोचते आए हैं कि पूर्वोत्तर किसी कोने में खोया—खोया, सोया—सोया सा इलाका है तो कोहिमा में 1 दिसंबर 2014  से सजने वाले हॉर्नबिल फेस्टिवल में…

Nagaland – where fashion reaches faster than roads!

Photo Essay on Kohima  स्कूल में जब पूर्वोत्तर की आठ बहनों के नाम रटने पड़ते थे तब नगालैंड—मणिपुर जैसे नाम किसी दूसरे ही लोक के मालूम होते थे! नहीं मालूम था कि एक दिन इन्हीें की गलियों-सड़कों से गुज़रना भी होगा। सड़क कहना गलत है वैसे, नगालैंड में गड्ढों के बीच सड़क का कोई टुकड़ा…

Nagaland – the land of festivals

लॉन्‍गखुम एक बार फि‍र लौटना होगा। नागा किंवदंती के अनुसार हमारी आत्‍मा वहीं ठहर गई है, उस पहले सफर में वो लॉन्‍गखुम की पहाड़ी ढलानों पर उगे बुरांश के पेड़ों और उनके सुर्ख फूलों के मोहपाश में फंस चुकी है। और उसे वापस लाने के लिए हमें लौटना ही होगा! मोकोकचुंग जिले के इस आओ…

Meghalaya – playground of Rain God

जहां बादल बिछुड़े हुए प्रेमियों की तरह आंसू बहा रहे हैं बेशक, दिल्ली समेत उत्तर भारत के ज्यादातर भागों में मानसूनी फुहारों की लुकाछिपी ने निराशा पैदा की है, लेकिन दुनिया में सबसे ज्यादा बारिश का मज़ा लूटने वाले चेरापूंजी में हमेशा की तरह बरसात का नृत्य जारी है। आपको जानकर अचरज होगा कि चेरापूंजी…