So, are you passionate about literature, don’t go to #JLF

How my annual literary pilgrimage failed me बीते तीन रोज़ में जितने भी दोस्तों से बातें हुईं सभी को मुगालता रहा कि डिग्गी पैलेस में सजी किसी महफिल में हूं। और नहीं तो जयपुर की मिर्ज़ा इस्माइल रोड पर कचौड़ी-लस्सी का नाश्ता नोश फरमा रही हूं। या फिर आमेर फोर्ट में सजी किसी संगीत की…

Festivals across India in June 2016

ट्रैवल न सही, तो ट्रैवल जैसा कुछ हो जाए जून का महीना उत्तर भारत में सिर्फ दो उद्देश्यों से आता है — तराई से मैदानों के बाज़ारों में उतरकर आए इफरात आम-लीची का जी-भरकर भोग लगाने या फिर गर्मियों को कोसते हुए मानसून का इंतज़ार करने की खातिर। पहला काम हमने कर डाला है और…

festivals hopping / lit-fests 2015-16

  wanderlust and lit-fests complementing each other   घुमक्कड़ी सिर्फ घुमक्कड़ी के लिए शायद सभी को नहीं जंचती। मैं भी इसी ‘प्रजाति’ की हूं, जिसे हर आवारागर्दी के पीछे एक बहाने की तलाश होती है। बहाना चाहे कितना भी कमज़ोर क्यों न हो! और यही वजह रही कि बीते दस सालों में सैर-सपाटे की मेरी…