Chardham Yatra – Retracing the footsteps of my ancestors

चार धाम यात्रा — पुरखों की ज़मीन पर अध्यात्म के सबक पहाड़ मुझे जब-तब बुलाते हैं और उनकी पुकार को अनुसना करना जब नामुमकिन हो जाता है तो मैं अपने पुरखों की ज़मीन की तरफ चल देती हूं। जाने क्यों मुझे हमेशा महसूस होता है कि वो आवाज़ किसी उस पुरखे ने लगायी है जिनकी…

The Great Indian Mango trail

Are you looking for cultural journeys into the heart of India? Come along, on a #MangoTrail to Shahjahanpur in Uttar Pradesh. हिंदुस्तान की गर्मियां कितनी ही जालिम सही, मगर ऐसे नज़ारों से गुलज़ार रहती हैं। दिल को राहत देती हैं न हाइवे किनारे सजी आम की बस्तियां और बाग—बगीचे। चौसा, केसर, गुलाबजामुन, तोतापुरी, गोला, जहांगीर,…

Sardhana of Begum Samru

सरधना – शेरदिल बेगम की रियासत में एक दिन गुज़रे वक़्त के रोमांस और रोमांच से बचा जा सकता है क्या? आपकी राहेगुज़र दिल्ली से यही कोई 100 किलोमीटर दूर सरधना हो तो यकीनन आपका जवाब नहीं ही होगा! चांदनी चौक के बाज़ार-ए-हुस्न में ठुमकती कश्मीरी फरज़ाना से जंग के मैदानों में हुंकार भरती बेगम…

A pilgrimage under the shadow of dragon

नई नहीं है कैलास-मानसरोवर तीर्थयात्रियों के साथ चीन की बदसलूकी! तिब्बत में भोजन से लेकर शौचालय की बदइंतज़ामी करती है कैलास-मानसरोवर यात्रियों को शर्मसार तीर्थयात्राओं में बदइंतज़ामी तो सुनी थी मगर बदसलूकी? पश्चिमी तिब्बत स्थित कैलास पर्वत और मानसरोवर की परिक्रमा के लिए भारत से जाने वाले आस्थावानों की भावनाओं के साथ चीन शुरू से खिलवाड़…

A traveller’s dream gone awry, are you listening Honda?

Truly amazed by your Amaze! हिंदुस्तान की सड़कों से बेइंतहा मुहब्बत हो जिसे उसकी आंखों में एक अदद रोड ट्रिप का सपना हमेशा मचलता रहता है। और रोड ट्रिप पर निकलने की पहली शर्त है एक अदद कार जिसके पहिये आपके सपनों से भी तेज रफ्तार से दौड़ते हों। उस सपने ने ही हमें इस कार…

Glimpses from my culinary journey in SE Asia

हैनानीज़ चिकन राइस इस बार आपको लिए चलते हैं सिंगापुर के राष्ट्रीय व्यंजन हैनानीज़ चिकन राइस के बहाने इस नन्हे से टापू देश में बसे चीनी मूल समुदाय को करीब से जानने-पहचानने के सफर पर। आगे बढ़ने से पहले आपको बता दूं कि चीन से लेकर ताइवान-सिंगापुर-थाइलैंड और मलेशिया तक में खाने-पीने को काफी तवज्जो…

An ode to 20th century intrepid English travel writer Penelope Chetwode

खनाग में घुमंतु पेनेलपी चेटवुड की दुनिया जलोड़ी जोत पर बर्फ के रोमांस ने हमें लंबा उलझा लिया था। सरेउलसर झील और रघुपुर किले की तरफ जाने वाली राह भी सफेदी में गुम हो चुकी थी। लंबे, घने चीड़ों को चीरकर जंगल से एक घुमावदार रास्ता उतरान और चढ़ाई के खेल खेलता हुआ करीब 2…