Muziris – a voyage into history

लहरों पर विरासत का सफर 

‘गॉड्स ओन कंट्री’ का दम भरने वाले केरल के पर्यटन नक्शे पर कुछ नई रेखाएं तेज़ी से उभर रही हैं। इस नई इबारत की जड़ें अतीत के उन ज़र्द पन्नों तक खिंची चली जाती हैं जहां ईसा से आठ-नौ सौ साल पूर्व में मालाबार तट पर किलोल कर रहा ऐसा पोत शहर था जो उस ज़माने में किसी ‘ग्लोबल मॉल से कमतर नहीं था। ये वो दौर था जब दुनिया के दिग्गज कारोबारी मसालों-जड़ी बूटियों की सुगंध का पीछा करते-करते समुद्री रास्तों की चुनौतियों को झेलते हुए मालाबार तट पर दस्तक दिया करते थे।

इस बंदरगाह शहर के इतने चर्चे थे कि Greek travelougue Periplus of the Erythraean Sea (1A.D.) में भी इसका जिक्र मिलता है। Roman author, naturalist Plini the elder ने, जो 23ई से 79ई के बीच जीवित थे, अपने encyclopedic work Naturalis Historia में ‘प्रीमियम एंपोरियम इंडीयी’ यानी भारत के पहले एंपोरियम के रूप मुज़िरिस का उल्लेख किया है। यहां ज़िक्र है मुचरी (मुचरीपत्तनम) शहर का जिसे Greco-Romans मुज़िरिस पुकारा करते थे और 14वीं सदी तक जिसके अफसाने दुनियाभर में गूंजते रहे थे। और जब ज़माना बड़े गौर से उसकी दास्तान सुन रहा था तो एकाएक वो शहर चुप हो गया। धरती की एक करवट के साथ वक़्त की तहों में कहीं गुम हो गया। पूरी दुनिया हैरान थी कि चीन, रोम, मिस्र, मैसोपोटामिया, पुर्तगाल, असीरिया तक की सरज़मीं से केरल की पेरियार नदी के तट पर जमा होने वाले  कारोबारियों की पदचाप से धड़कता-चहकता शहर एकाएक कहां खो गया। फिर 21वीं सदी में एक रोज़ आसमान और धरती का मिलन कुछ यों हुआ कि पाट्टनम की ज़मीन ने वो सारे राज़ खुद-ब-खुद उगल दिए जो वो बीते 700-800 वर्षों से अपने सीने में दबाए थी। उस रात बरसता आसमान मिट्टी की निचली परतों में दफन उन रंग-बिरंगे मोतियों को उघाड़ने में जुटा था जिनके तार दो हजार साल पुराने रोमन साम्राज्य से जुड़े थे। बारिश से धुली-धुली ज़मीन पर बिखरे अलग-अलग आकार और रंगों के उन मोतियों से पाट्टनम के लोग खुश थे लेकिन वो इस बात से बेज़ार थे कि कांच और पत्थरों के वो मोती ही दरअसल, केरल को भूमध्यसागरीय धरती से लेकर उत्तरी अफ्रीका और पश्चिम एशिया तक की धरती से जोड़ते थे।

img_20160929_090615

View from my temporary abode at Bolgatty Palace (built by the Dutch) overlooking backwater

कोच्चि में बोलगाट्टी पैलेस से मुज़िरिस प्रोजेक्ट को नापने के सफर की शुरूआत इतनी टेढ़ी होगी, इसका अंदाज़ मुझे ज़रा नहीं था। होटल स्टाफ में किसी ने भी ‘मुज़िरिस’ पहले कभी नहीं सुना था शायद, कम से कम उनके चेहरे पर उभरे भाव तो यही कह रहे थे। पड़ताल के सिलसिले शुरू हुए, टैक्सी वाले, जेट्टी वाले, यहां तक कि होटल के सफाई कर्मचारी, खाना बनाने वाले तक से पूछताछ हो गई। कितने ही फोन नंबर मिला लिए गए। रिसेप्शनिस्टों के चेहरों पर शिकन की लकीरें उभर आयी थीं, किसी भी फोन संदेश के उस पार से मुज़िरिस की राह दिखायी नहीं दे रही थी। फिर भी उंगलियां थीं कि एक के बाद एक नंबरों को घुमाने में लगी थीं। रिसेप्शन डेस्क को बेशक, मेरी मंजिल का पता मालूम नहीं था लेकिन वहां तक मुझे पहुंचा देने की उनकी कोशिशों ने मुझे नतमस्तक कर दिया था। उनकी मलयालम और मेरी हिंदी जुबान के बीच टूटी-फूटी अंग्रेज़ी का सेतु ही था जो किसी तरह कुछ काम चला रहा था। आखिरकार मुज़िरिस हेरिटेज प्रोजेक्ट का पता मिल गया। कोच्चि से पनवेल-कन्याकुमारी हाइवे यानी एनएच66 पर होते हुए हमें करीब 25 किलोमीटर दूर परवूर सिनागॉग तक जाना था। वहीं नज़दीक परवूर जेट्टी से हॉप-आन हॉन-आफ बोट की सैर शुरू होती है।

पता मिलने की देर थी कि मैं और उबर कैब केरल की सर्पीली सड़कों को नापने लगे थे। एंटनी की दिलचस्पी कैब को हांकने में कम और इस मुज़िरिस नाम की बला में ज्यादा थी। उसने भी इसका जिक्र पहले कभी नहीं सुना था। बहरहाल, अब तसल्ली थी कि मेरे पास एक पता था और एंटनी की कैब में चौकन्ना जीपीएस लगा था। परवूर के बाज़ार की रौनक को नापते-टापते हुए हम आगे बढ़ रहे थे, हमें रास्ते में खड़े चर्चों-मंदिरों-मस्जिदों से कोई वास्ता नहीं था उस रोज़। परवूर सिनागॉग की तलाश हमें आखिरकार एक पुरानी, धुली-धुली सफेदी और सादगी में नहायी इमारत के ठीक सामने ले आयी थी। यह दरअसल, चेंदामंगलम सिनागॉग था जिसे मुज़िरिस विरासत संरक्षण परियोजना के तहत् अब केरल ज्यूज़ लाइफस्टाइल म्युज़ियम भी कहा जाता है। वक्त़ के गुबार में खो चुके 17वीं शताब्दी के इस यहूदी प्रार्थनागृह को केरल सरकार ने सहेजकर इसमें एक छोटा म्युज़ियम भी तैयार किया है और अब यहां केरल में शुरूआती यहूदी जीवन की झलक देखी जा सकती है।

img_20160929_105125

Chendamangalam Jewish synagogue (Jewish Lifestyle museum)

मगर मेरी जेब में रखा पते का पुर्जा कह रहा था कि हमें परवूर सिनागॉग पहुंचना था और उसी के नज़दीक जेट्टी से बोट राइड शुरू होनी थी। परवूर जैसी छोटी-सी बस्ती में दो-दो सिनागॉग होंगे जो यों उलझन में डाल देंगे, किसने सोचा था।

एरणाकुलम से परवूर तक का सफर जितना आसान था, परवूर से परवूर की राह उतनी ही पहेली बन गई थी।

मंजिल हाथ आते-आते छूट रही थी। हम अब भी कोट्टायिल कोविलाकुम के चेंदामंगलम सिनागॉग के सामने खड़े थे। एक बार फिर जीपीएस के कान मरोड़े गए, नया ठिकाना बताया गया और इस बार अपनी असल मंजिल तक पहुंच गए।

img_20160929_113144

जेट्टी पर सवारी के लिए टिकट काउंटर से ही गाइड साथ हो लिया था। टिकट काउंटर दरअसल, परवूर सिनागॉग में ही है। इस प्रार्थनागृह को अब ज्यूइश हिस्टॉरिकल म्युज़ियम में ढाला गया है।

img_20160929_112654

Prayer Hall in Paravur synagogue

केरल में सैंकड़ों साल पहले आकर बसे यहूदी जीवन की सामाजिक-धार्मिक-सांस्कृतिक परंपराओं से रूबरू होने के लिए इन दोनों संग्रहालयों में कुछ वक़्त बिताने के बाद मैं पेरियार की लहरों से मुखातिब थी।

img_20160929_113220

Paravur synagogue and Jewish historical museum

पेरियार की लहरों पर अतीत की सवारी

पेरियार के पानी पर सालों से टकटकी लगाए खड़े चाइनीज़ जालों के सिलसिले शुरू हो चुके थे। एक अजब सफर की शुरूआत थी जिसमें मछुआरे थे, मछलियों की गंध थी, मसालों की महक थी, इतिहास और विरासत के झोंके थे और कहीं पेरियार नदी और अरब सागर का संगम था। इंसानी बस्तियों से निकलकर मछुआरों की मंडियों तक की यात्रा थी, प्राचीनतम बाज़ारों की रौनक थी, विरासतों की बची-खुची खुरचन थी और कितने ही मंदिर, चर्च, मस्जिद, सिनागॉग और संग्रहालय थे जो केरल के बीते तीन हजार वर्षों की दास्तान सुना रहे हैं।

img_20160929_121224

Periyar bank is dotted with fishermen villages and their Chinese nets

दूर क्षितिज तक फैली थी नौकाओं की रेखाएं जो कभी सिकुड़कर बिंदु बन जाती थी और कभी करीब आने पर किसी जहाज़ से कम नहीं दिखती थीं। उनके काले, नीले, पीले, लाल, हरे  रंगों ने हैरत में डाला था तो गाइड ने बताया कि कलर कोडिंग की यह तकनीक नौकाओं की पहचान के लिए अमल में लायी जाती है।

img_20160929_125035

कुछ मिनट पेरियार की लहरों पर तैरने के बाद हमारी नौका किसी पुराने चर्च या संग्रहालय के ठीक सामने रुकती थी। जलमार्ग के जरिए विरासतों से मिलने का यह अंदाज़ मेरे लिए नया था। अभी तक वेनिस की नहरों का जिक्र सुना था लेकिन केरल में नदी मार्ग पर होते हुए यों जिंदगी से मिलना भी कम खास नहीं था।

img_20160929_120709

Sahodaran Ayappan museum is now part of Muziris Heritage project

अगला पड़ाव पालिपुरम था। पेरियार के इस तट पर मिथकों में लिपटा आवर लेडी आॅफ स्नो चर्च पूरी शानो-शौकत के साथ खड़ा था। वाइपीन द्वीप पर 1507 में पुर्तगालियों ने इस चर्च का निर्माण कराया था जहां आसपास के इलाके (मुज़िरिस) से ईसाई आकर बस गए थे।

img_20160929_122243

Basilica of our lady of snow, Pallipuram (Muziris)

3 से 4 घंटे की बोट राइड में हर 15-20 मिनट पर पड़ाव बनाए गए हैं जिनमें चर्च, संग्रहालय, मस्जिद, सिनागॉग, किले वगैरह शामिल है। पेरियार की लहरों पर तैरती एयरकंडीशंड बोट सैलानियों को केरल की जिंदगी दिखलाती चलती है।

img_20160929_125303

गांवों, पाठशालाओं, मछुआरों की बस्तियों, मछली मंडी को पार करते हुए एक दिलचस्प गांव से गुजरती है नौकाएं। और यह गांव विख्यात है नौका निर्माण के लिए। केरल के अलावा कर्नाटक, तमिलनाडु जैसे पड़ोसी राज्यों के लिए भी यहीं नौकाएं बनायी जाती हैं।

img_20160929_121837

छोटी-बड़ी, लाल-पीली-नीली जाने कितनी ही तरह की नौकाओं को बनते देखना एक दिलचस्प अनुभव होता है। और इसे पार कर कोट्टापुरम के उस ऐतिहासिक बाजार में पहुंचते हैं जो संभवत: हिंदुस्तान का सबसे प्राचीन बाजार है। सैंकड़ों साल पहले मुज़िरिस के इसी बाजार में मसालों-हाथी दांत, जड़ी-बूटियों जैसी वस्तुओं के बदले विदेशी सिक्कों, वाइन, पॉटरी आदि की खरीद-फरोख्त हुआ करती थी। अब सिर्फ सोमवार और बृहस्पतिवार को यह बाजार सजता है, बस फर्क इतना है कि अब यहां खरीदार स्थानीय लोग ही होते हैं।

img_20160929_152715

Palium Dutch Palace, the tradional Palium household for men

मुज़िरिस प्रोजेक्ट ने केरल के पारंपरिक घरों को म्युज़ियम में तब्दील किया है ताकि आधुनिक दौर के हम यात्रियों को बीते वक़्त की जीवन पद्धति की झलक देखने को मिल सके। मुज़िरिस ट्रेल वाकई इस लिहाज से बहुत समृद्ध है। मैंने उन विशाल हवेलीनुमा घरों को देखा जिनमें औरतों और उनके बच्चों को ही रहने की इजाज़त थी (Nalakettu), पुरुष उनके साथ वहां नहीं रह सकते थे। इनके नज़दीक बना था पालियम पैलेस, जो अभी करीब आधी सदी पहले तक सिर्फ पुरुषों का ठिकाना होता है। यह वही पालियम पैलेस था जिसके सामने से किसी जमाने में सिर्फ ऊंची जाति के हिंदुओं और अन्य धर्मों के लोगों को ही गुजरने की इजाज़त थी। नीची जाति के हिंदु और अस्पृश्य यहां से गुजर नहीं सकते थे। और इसी के विरोध में 1946 में पालियम सत्याग्रह शुरू हुआ जिसके चलते 1948 में यह भेदभाव खत्म हुआ।

हॉप-आन हॉप-आफ बोट  राइड का अहम् पड़ाव है कोट्टापुरम

इस बाजार के बाद पेरियार पर दाहिने मुड़ते ही लाल बलुआ पत्थरों की पुरानी दीवारों के अवशेष अपनी तरफ ध्यान खींचते हैं।

img_20160929_131617

Ruins of Kottapuram fort (Muziris)

यही कोट्टापुरम का वो ऐतिहासिक किला है जिसे 1523 में पुर्तगालियों ने बनाया था, जो कोझिकोड के ज़मोरिन शासकों और कोच्ची के राजाओं के बीच कितनी ही जंगों का साक्षी रहा और आखिरकार डचों का इस पर कब्जा हो गया। लेकिन यह कब्जा भारी जंग के बाद ही मुमकिन हुआ था और उसमें किला काफी हद तक नष्ट हो गया। पेरियार के मुहाने पर खड़े इस किले का इस्तेमाल डच नदी पर दूर तक आते-आते कारोबारी जहाज़ों पर नज़र रखने के लिए करते थे।

img_20160929_131723

Dutch used this fort as an outhouse to guard trade ships from far and wide

गुजरे ज़माने में कोच्चि से त्रिशुर तक के जलमार्ग से होते हुए मुज़िरिस बंदरगाह तक केरल के अंदरूणी इलाकों से लाए माल की आवाजाही हुआ करती थी। पर्यटन मंत्रालय, भारत सरकार में संयुक्त सचिव सुमन बिल्ला कहते हैं ”यह केरल की पुरानी परंपराओं को गौरवशाली तरीके से एक बार फिर विश्व मानचित्र पर लाने की पहल है।”  इंसानी सभ्यता के भव्य अतीत की झांकी दिखलाने वाली मुज़िरिस परियोजना निश्चित ही पर्यटन की अपार संभावनाओं को समेटे है। केरल पर्यटन को यकीनन ऐसी ही जादुई छड़ी की दरकार है।

What is Muziris Heritage conservation project?

केरल सरकार की मुज़िरिस परियोजना आज भारत में सबसे बड़ी विरासत संरक्षण परियोजना है और इसके तहत् प्राचीन प्रार्थना स्थलों, पुराने बाजारों-मंडियों, किलों का जीर्णोद्वार/रखरखाव तथा उस दौर की जीवनशैली को सहेजने-दर्शाने वाले संग्रहालयों का निर्माण शामिल है। फिलहाल, परियोजना के अंतर्गत 8 संग्रहालय चालू हो चुके हैं। दो यहूदी प्रार्थनागृहों यानी परवूर सिनागॉग और चेंदामंगलम सिनागॉग में क्रमश: ज्युइश हिस्टॉरिकल म्युज़ियम और लाइफस्टाइल म्युज़ियम खुल चुके हैं। जल्द ही एक और Mala synagogue भी इसी विरासत से जुड़ जाएगा जो परवूर से 15 किलोमीटर दूर है।

How to reach Muziris 

एरणाकुलम जिले में परवूर से लेकर त्रिशुर के कोट्टापुरम तक फैली मुज़िरिस परियोजना के ऐतिहासिक स्थलों को नापने के लिए पेरियार की लहरों पर दौड़ती एयरकंडीशंड हॉप-आन हॉप-आफ बोट (airconditioned HoHo boat ride) की सवारी की जाती है।

Kochi to Paravur: 25 km

Transport: (pvt cab / Uber services also available) / Bus service (one way ride Rs 21/ only)

Reach Paravur Jetty for HoHo boat ride: Ticket cost Rs 550/ per adult (exluding veg/Non veg meal for Rs 60/ – Rs 80/)

img_20160929_113509

पेरियार तट पर परवूर विजिटर्स सेंटर जेट्टी, कोट्टापुरम मार्केट जेट्टी, गोथुरुठ जेट्टी, पालियम जेट्टी जैसे कितने ही ठिकानों से इन नौकाओं में सवार हुआ जा सकता है। फिलहाल ऐसी 5 नौकाएं केरल टूरिज़्म ने पेरियार नदी में उतार रखी हैं और जल्द ही 7 और नौकाओं को सैलानियों के लिए लगाने की योजना है।

Advertisements

2 thoughts on “Muziris – a voyage into history

  1. आज आपके साथ मुज़िरिस की खोजबीन में मज़ा तो बहुत आया परन्तु इतने सारे नये नाम जिनका उच्चारण भी सरल नहीं है, सामने आये कि अगर परीक्षा में मुज़िरिस से संबंधित सवाल आने हों तो आपकी इस पोस्ट का कम से कम दस बार घोटा लगाना पड़ेगा! कुल मिला कर आपकी जिजीविषा को प्रणाम जो लक्ष्य तक पहुंचने से पहले आपको रुकने नहीं देती !

    Like

    • अपने भाग्य पर इतराइये कि जिंदगी के इस मोड़ पर कोई एग्ज़ाम हीं देना 🙂 बहरहाल, नाम मुश्किल थे मगर पेरियार पर बोट राइड बेहद सुकूनभरी है। कभी हो आइये उस तरफ

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s