शुक्रिया Lava V5, नहीं तुमसे कोई गिला!

मैं उन लोगों में खुद को शुमार करती रही हूं जिन्हें टैक्नोलॉजी से परहेज हुआ करता था। ‘था’ यानी ‘था’! दरअसल, टैक्नोलॉजी के मायने मेरे लिए पर्सनल इंटरेक्शन के बीच बहुत बड़ी दीवार हुआ करते थे। आधुनिक टैक्नोलॉजी यानी हरेक की मुट्ठी में समायी वो स्क्रीन जो आमने-सामने के संवादों के मुंह पर ताले जड़ देती है। मोबाइल फोन की दुनिया मुझे हमेशा  बेगानी लगती रही। अपने में डूबे लोग, अपने आसपास से बेपरवाह लोग, अपने माहौल से अनजान लोग और यहां तक कि कई बार अपने सचमुच के संसार से विरक्त लोग। फिर स्मार्टफोन का दौर आया। और एक स्मार्ट स्क्रीन एक रोज़ चुपचाप मेरी भी मुट्ठी में सिमट आयी। अब उसे समझने की फिक्र हावी थी, उसे तरतीब से इस्तेमाल करने की जिद थी और मन में एक ‘सीक्रेट’ संकल्प था कि अपने फोन की वजह से ‘अनसोशाल’ नहीं बन जाना है मुझे। ‘स्मार्ट’ फोन यानी ‘स्मार्ट’ मैं, न कि ‘अनसोशल’ मैं।

और ऐसा मुमकिन कर दिखाया मैंने अपनी वाली स्मार्ट स्क्रीन से। फोन का उतना ही इस्तेमाल जितना जरूरी हो। और सारे बड़े वाले, भारी-भरकम, समय खपाऊ कामों को कर दिया apps के हवाले। आप फोन चुनेंगे सही मायने में स्मार्ट तो apps फर्राटा दौड़ेंगी। जैसे कि Lava V5 ( http://www.lavamobiles.com/smartphones/v5) जिसकी दमदार 3GB DDR3 RAM की बदौलत apps को इस्तेमाल करना आसान होता है।

आपकी मनपसंद apps की बढ़िया परफॉरमेंस से आपका काम बनता है आसान और समय की भी बचत होती है। यानी आप स्क्रीन पर बिताते हैं कम समय। ‘स्मार्ट’ बनने का मेरा पहला नुस्खा यही था।

खूबसूरत मैटल फ्रेम और आकर्षक डिजाइन वाले Lava V5 से आप हर किसी को आकर्षित करते हैं। अब इससे भी आपको फायदा मिलता है। वो जो आपके आसपास होते हैं न कॉलेज, दफ्तर, या पास—पड़ोस में वो आपकी मु​ट्ठी में सिमटी आकर्षक डिवाइस के बारे में आपसे बातें करना चाहता है। आपकी पसंद को सराहते हैं, आपके अनुभव सुनना चाहते हैं, आपकी राय जानने को उतावले होते हैं। मेरे Lava V5 फोन ने मुझे इस तरह एक नई ताकत दी। मेरा फोन और मैं अपने आसपास के लोगों का आकर्षण बन चुके हैं, यानी अब मेरी वो शिकायत नहीं रह गई थी जो अक्सर टैक्नोलॉजी की वजह से मुझे होती है। समय है अपनी धारणा बदलने का, यानी टैक्नोलॉजी सिर्फ लोगों को आपसे काटती ही नहीं है बल्कि जोड़ती भी है। और मेरा अपना देखा—भोगा अनुभव यही है। टैक्नोलॉजी हो Lava V5 जैसी जोरदार तो आप जुड़ते हैं लोगों से।

सैल्फी ले सैल्फी!

सैल्फी का मर्ज मुझे कभी नहीं था। मगर नए Lava V5 से सैल्फी लेने के लिए मेरे सारे दोस्त हमेशा उतावले रहते हैं। यानी मेरे साथ सैल्फी लेने की उनकी कोशिशों ने मेरी बची—खुशी शिकायतों को भी दूर कर दिया है। वो कहते हैं, मेरे फोन से उन्हें बैस्ट स्नैप मिलती है। आखिर 8 मैगापिक्सल फ्रंट कैमरा, 84 डिग्री वाइड एंगल लैंस और F2.2 एपरचर के साथ एलईडी फ्लैश का शुक्रिया करना ही होगा।

 

Lava V5 के 13 मैगापिक्सल कैमरा, जिसमें है तेज-तर्रार 3M2 ISOCELL सैमसंग सैंसर, की बदौलत मेरे कैमरे में कैद तस्वीरें बिल्कुल प्रोफेशनल द्वारा ली गई स्नैप्स की माफिक लगती हैं। ट्रैवल जर्नलिस्ट का मेरा पेशा और उस पर आए दिन यहां से वहां सफर में रहने की फितरत के चलते कई बार डीएसएलआर को ढोने से मैं बिल्कुल परहेज करती हूं। लेकिन इसका मतलब यह कतई नहीं है कि अपने सफर डिजिटाइज़ नहीं करती। सच तो यह है कि मेरे हाथ में समाया मेरा स्मार्टफोन अब मुझे कहीं अधिक सिलसिलेवार तरीके से फोटो कैद करने की आजादी देता है। अब कोई भी पल नहीं चूकता, कोई भी अवसर मैं नहीं गंवाती। और मैं दूसरों से भी कहती हूं पास में हो Lava V5 तो वाकई आप कभी नहीं खोते कोई भी खास पल। You will #NeverMissAShot with your special Lava V5 ….NEVER!

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s