Hobnobbing with the tribals of Bastar*

जगदलपुर में लोहांडीगुड़ा के इस हाट बाज़ार में ख्वाहिशों के कैसे-कैसे रंग देखे।

IMG_20141003_152302

The Desire

हाट बाज़ार में अपने खेतों की उपज बेचने 50- 60 किलोमीटर दूर-दूर के देहातों से चले आते हैं ये आदिवासी। और बदले में गुड़, साबुन, तेल, गहने की खरीदारी में पूरी कमाई उड़ाकर लौट जाते हैं।

IMG_20141003_135335

सादगी की बानगी तो देखिए, मेरे कैमरे में उतर आने के लिए उसका आतुर मन कितना तैयार है!

IMG_20141003_143123

कुछ पहचाना कुछ अन पहचाना, सभी कुछ तो था उस हाट बाज़ार में।

IMG_20141003_134402

और खेती के औजारों का एक कोना भी सजा था …

IMG_20141003_132705

कोई सोच सकता है इन आदिवासियों की कल्पनाओं का साकार रूप हैं ये बैल मैटल की मूर्तियां जो बस्तर से लेकर रायपुर के शोरूमों तक में सजी हैं।

IMG_20140929_150842

और किसी पोस्टर की तरह सजा था ये एक कोना, सब्जियों की इबारत सजाए!

IMG_20141003_144255

मन का उल्लास हर चेहरे पर चस्पां था,  हम शहरवालों की जिंदगी भी सचमुच इतनी ही सहज हो जाए तो क्या बात हो!

 

IMG_2219

बस्तर में आदिवासी समाज भी अब उतना पारंपरिक नहीं रह गया है जितना हमारी कल्पनाओं में जमा है, पहनावा तेजी से शहरी हो रहा है, लड़के बस ‘बींग ह्यूमैन’ की टी-शर्टों में दिखने ही वाले हैं और औरतें वो भी कहां अब घुटनों तक बंधी धोतियों में सिमटी रह गई हैं।

IMG_2236

शहरी असर के बावजूद परंपरा की झलक उतनी दुर्लभ भी नहीं है।

IMG_2238

* मध्य भारत के छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के दक्षिण में है वो रहस्यमी बस्तर जिसके बारे में जाने कितने ही किस्से हैं, कहानियां, रहस्य के आवरण उसकी असलियत को छिपाए हैं और तरह-तरह के कयासों-अटकलों के बीच अपनी हस्ती को वैसी ही शान से बनाए रखे हुए है बस्तर जैसी बीते कई बरसों से है।

और चाहे जो है, इतना सच है, बिल्कुल मेरा अपना देखा-भोगा-महसूसा सच कि बस्तर आना एकदम आसान है। रायपुर का संपर्क देश के कई भागों के हवाईअड्डों से है, एयर इंडिया, जैट, इंडिगो की उड़ानें दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद, इंदौर, नागपुर, कोलकाता जैसे शहरों तक रायपुर को जोड़ती हैं। रायपुर से आगे करीब छह-सात घंटे का सड़क का सफर आपको बस्तर के प्रशासनिक गढ़ जगदलपुर लाता है। और बस, आप होते हैं खजाने के ऐसे मुहाने पर जिससे किसी भी दिशा में मुड़ जाने पर नायाब अनुभवों की गारंटी है!

और हां, ये नक्सल-वक्सल भूल जाइये, मुख्य सड़कों पर आवाजाही रखें, लोकल गाइडों की सलाह मानें, कहीं दूर-दराज के जंगलों में एडवेंचर करने न निकलें, अंधेरा घिर आने पर सुदूर दक्षिण के भीतरी इलाकों में न जाएं। बस, इतनी ही सावधानी काफी है। बस्तर अपने पूरे कुदरती नज़ारों के साथ आप ही के इंतज़ार में बिछा है। पूरी तरह सुरक्षित और बहुत ही खास सफर के अनुभव दिलाने के लिए तैयार। आ रहे हैं, न!

ज्यादा जानकारी चाहिए तो #LonelyPlanet (https://shop.lonelyplanet.in/?_route_=chhattisgarh-guides) की इन ताजातरीन गाइडबुकों की मदद लेना न भूलें। सभी कुछ है इनमें, वो सारे सवालों के जवाब जो आपके मन में उठ सकते हैं, सच्ची!
image

Advertisements

7 thoughts on “Hobnobbing with the tribals of Bastar*

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s