learning to ski amidst oaks and Deodars of Auli

गढ़वाल हिमालय में एडवेंचर की पाठशाला

चारधाम की राह पर चलते हुए एडवेंचर के सबक! पड़ गए न आप भी मेरी ही तरह हैरत में! मुमकिन है ये भी … गढ़वाल हिमालय में सुदूर औली तक आना होगा, जोशीमठ वो अंतिम पड़ाव है जहां से दो रास्ते अलग हो जाते हैं, एक बदरीनाथ यानी परम धाम तक चला जाता है और दूसरा एडवेंचर धाम यानी औली तक लाता है। मर्जी आपकी, जो भी चुनें। बेशक, आध्यात्म और एडवेंचर दोनों ही खुद को भुलाकर किसी परम ध्यानावस्था में ले जाने वाले होते हैं।

IMG_7541

highway to Auli

हमने चुनी एडवेंचर स्पोर्ट्स की मंजिल यानी औली। जोशीमठ से यही कोई बीस किलोमीटर दूर। लगभग ग्यारह सौ साल पहले आदि शंकराचार्य भी इसी मोड़ पर आए थे, जोशीमठ में पांच साल रुक गए, ध्यानमग्न और फिर जो ज्ञान मिला उसने उन्हें बदरीनाथ की राह पर मोड़ा था।

IMG_20150209_121837

Jyotirmath is one of the four Maths (seats) established by Adi Shankaracharya

और हम हम मस्ती की पाठशाला में भर्ती हो गए। शायद वैसा संकट हमारे सामने नहीं था जो महज़ ग्यारह साल की उम्र में आदि शंकराचार्य को मथ रहा था — हिंदू धर्म के अस्तित्व पर मंडराता संकट।

IMG_7378

गढ़वाल हिमालय में बसे औली तक पहुंचने की राह लंबी सही मगर बेहद खूबसूरत है। हरिद्वार, देहरादून जैसे शहरों से लगभग दस घंटे सड़क का सफर तय करने के बाद औली पहुंचा जा सकता है। हरिद्वार से औली तक के 280 किलोमीटर लंबे मार्ग पर आप पंचप्रयागों में से चार पार करते हैं। बदरीनाथ हाइवे का यह सफर आपको आध्यात्म की खुराक बिन मांगे देता है।

IMG_7420

Devprayag – Confluence of Alaknanda and Bhagirathi

इंसानी सभ्यता आसपास ही होती है और कुदरत के ऐसे नज़ारे भी साथ-साथ बने रहते हैं।

IMG_7580उत्तराखंड के दूसरे सबसे बड़े जिले चमोली में है औली जिस तक पहुंचने के लिए हिमालय से घिरे इन सर्पीले रास्तों से गुजरती है राह!

IMG_20150206_175407

पूरे दस घंटे का सफर पूरा कर जोशीमठ आ लगी थी हमारी सुमो। शाम अपने पूरे शबाब पर थी, कुछ ही देर में अंधेरा घिर आया था और जोशीमठ के टैक्सी स्टैंड पर जैसे पहले से लगे वाहन नींद में उतरने लगे थे। हमारे ड्राइवर ने भी लंगर डाल दिए। आगे रास्ते पर बर्फ का संसार है, रात का सफर खतरे से खाली नहीं था। उसकी सलाह पर हमने भी औली तक बची आखिरी बीस किलोमीटर की राह को अगले दिन नापने का मन बना लिया। गढ़वाल मंडल विकास निगम लिमिटेड (GMVN) के टूरिस्ट रेस्ट हाउस में उस रात पनाह ली हमने।

IMG_20150207_100021

Way to Auli

अगली सुबह से शुरू हो गया था रोमांच का सफर। बर्फीले रास्तों पर बढ़ती हमारी सुमो

IMG_20150207_100034

और अब हिमालय ने भी अपना सौंदर्य उड़ेल दिया था

IMG_20150207_102649

गढ़वाल मंडल विकास निगम लिमिटेड (GMVN) के स्की रेसोर्ट से कोई आधा किलोमीटर पहले गाड़ी ने खड़ी चढ़ाई वाला मोड़ काटने से मना कर दिया। और फिर इस बर्फीली राह पर हम पैदल ही बढ़े चले।

IMG_20150207_103737

एक बर्फीला संसार सामने इंतज़ार में था। स्कीयर्स की हलचल से गुलज़ार थी औली की बर्फीली ढलानें।

IMG_20150209_102739

और स्लैज …. वो भी तो थी, ढलानों पर रपटने के लिए।

IMG_20150208_120136

और नंदा देवी जैसी चोटियों की छांव में स्की की प्रेक्टिस का आनंद तो जीएमवीएन के औली स्की रेसोर्ट में आकर, कुछ दिन बिताकर ही महसूस किया जा सकता है।

IMG_20150208_123155

जब स्की, स्लैज की सवारी से मन भर जाए तो इस केबल कार की सवारी जरूर करें, इस उड़नतश्तरी से सिर्फ बाइस मिनट में सबसे उपरी टॉवर से नीचे जोशीमठ तक पहुंचा जा सकता है। भाग्यशाली थे हम जो इसकी सवारी भी करने का मौका मिला, दरअसल, 2009 में सैफ खेलों के बाद ही यह खराब हो गई थी। और फिर अगले चार साल तक आंदोलनों, धरनों, कितनी ही मांगों—दबावों के बाद जाकर इसकी मरम्मत हुई और जनवरी 2015 में ही दोबारा इसे चालू किया गया है।

IMG_20150209_102839

और करीब दस हजार फुट की उंचाई पर औली का नज़ारा किसी स्वर्ग से कम होता है क्या। यकीन नहीं तो ज़रा इस तस्वीर को ही देख लो

image

Advertisements

5 thoughts on “learning to ski amidst oaks and Deodars of Auli

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s