My Journey to Shiva’s Abode – Kailas Mansarovar (Part I)

Photo Essay on Kailash-Mansarovar Pilgrimage

तिब्बत में कैलास मानसरोवर हमारा मुकाम है, बीच के पड़ाव कोई मायने तो नहीं रखते लेकिन अंतिम मंजिल तक पहुंचने की कड़ियां उनसे ही बुननी है। पिथौरागढ़ के धारचूला में तवाघाट पर धौली और काली के उफनते संगम को पार कर पांगला पहुंचाया है जीप ने। यहां से आगे का सफर पैदल तय करना है। निकल पड़े हैं ..

Pangla in Dist Dharchula, from where the trek started

Pangla in Dist Dharchula, from where the trek started

आज ट्रैक का पहला ही दिन है, मन में उत्साह है और पैरों में पंख लगे हैं। अभी कई किलोमीटर दूर चलकर जाना है

KMY-2 042

सत्तर बरस के बलदेव भी चल दिए हैं कैलास की राह … इसे जज़्बा ही कहेंगे न!

KMY-2 052

पहाड़ों के गृहस्थों की इस साधना को देखकर नतमस्तक हुए बिना नहीं रहा जा सकता

KMY-2 070

धूपीले रास्ते में घनपातल के इस जंगल की छांव ने जाने कितने ही कैलास तीर्थयात्रियों को सहारा दिया होगा, उस रोज़ मेरी भी थकान इन घने पेड़ों की ओट में जैसे कहीं गुम ही हो गई।

KMY-2 119

रास्तों में पेड़ की छांव हो या इन पहाड़ी बच्चों का घेराव, पैरों को कहां शिकायत करने का मौका मिलता है ..

KMY-2 126

अगली सुबह ने जैसे फिर कहा — चरैवेति चरैवेति ।

KMY-2 227

और हमें उत्साहित करता हमार पोर्टर पहाड़ी राह पर यों दौड़ चला …

KMY-2 228

इन राहों पर यात्रियों के सैलाब न सही, मगर हौंसलों की ऐसी मिसालें जरूर दिख जाती हैं

IMG_20140810_103132

रास्ते ऐसे बियाबान से गुजरते हैं जो, यकीनन निर्वाण की तरफ ले जाते होंगे।

IMG_20140809_132743

उस परम सत्ता से संवाद के लिए ऐसी राहों से गुजरना होगा।  ये मार्ग भी एकांतिक साधना से अलग कहां हैं, कोलाहल से दूर, प्रकृति की सुरम्य संगति में चढ़ते—बढ़ते हुए चलते जाना भी तो बस ध्यान में डूब जाने जैसा ही था ।

IMG_20140810_184611

राहों की निर्जनता बढ़ गई है, इतना तो महसूस हुआ मगर अब इस बेचारे को भी यों ही अकेले चलना होगा

IMG_20140810_074622

रास्ते अब खौफजदा हो चले हैं। इस बीच, खेतों, घरों, बागानों, और सभ्यता से नाता कटने लगा था, अब सिर्फ पहाड़ों, नदियों, झरनों, घाटियों और आगे दर्रों का ही साथ रहने वाला है।

IMG_20140810_130632

 

IMG_20140810_131553

शुद्ध, सात्विक, पोषक भोजन के लिए मार्गों में बीते दौर की चटि्टयों की तरह का सा इंतज़ाम इस यात्रा के मिजाज़ के पूरी तरह अनुकूल ही होता है।

IMG_20140811_064712

तीसरे दिन से काली नदी साथ हो लेती है सफर में। कभी किसी खाई से पतली लकीर सी दिखने वाली काली गाला से बुधि के मार्ग में महाउत्पाती दिखती है।
IMG_20140811_082749

इन कठिन, दुर्गम, जोखिमभरे मार्गों पर ध्यानावस्था सचमुच बड़े काम की चीज़ है!

KMY-2 528

इन झरनों—नालों पर वो एक मजबूत हाथ बहुत काम आता है

IMG_20140811_103642

मगर मुश्किलें हैं कि अभी खत्म होने का नाम ही नहीं ले रहीं, पत्थरों को काटकर भले ही रास्ता सीढ़ीनुमा बना है, मगर तीखी, फिसलन भरी उतरान बहुत धैर्य मांगती है।

IMG_20140811_111623

मुश्किलों को पार करते—कराते अगली मंजिल ऐसी हो तो किसे थकान याद रहती है !

IMG_20140811_095048

IMG_20140811_092406

और ​मतवाले राही फिर बढ़ चलते हैं अनजान राहों पर

IMG_20140811_091430

चौथे दिन बुधि से गुंजी की राह पर बढ़ रहा है यात्रियों का कारवां। पहले तीन किलोमीटर खड़ी चढ़ाई है। नमज्युंग पर्वत की बुलंदियों पर ग्लेशियर की एक लकीर दिखी है, और तलहटी में काली की एक पतली धार है, सारी शैतानियां भूलकर, एक स्तब्ध धार की तरह है काली बुधि में।

IMG_20140812_064449

इस तीखी, खड़ी चढ़ाई पर घोड़ों ने ही नैया पार लगायी बहुत से तीर्थयात्रियों की। घोड़े की सवारी करते हुए कई बार सोचा कि किस जन्म का कर्जा है जो ये इस तरह उतार रहा है? है भी या नहीं, कहीं हमारी सोच ही है ये, घोड़े बेचारे को इससे क्या लेना—देना !

IMG_20140812_065753

थकान से बेहाल हमारे कदम कहीं ढीले न पड़ जाएं, हौंसले कहीं कमज़ोर न हो जाएं … शायद इसीलिए ये संदेश होंगे, हैं न? रास्तों की थकान हर लेते हैं ऐसे पत्थर भी …

IMG_20140812_070010

और कुछ दूरी के बाद शुरू हुआ फूलों की घाटी का मोहक संसार। न कोई चढ़ाई, न उतरान, न खाई, न गड्ढे … छियालेख में जड़ी—बूटियों की महक और फूलों की इन बस्तियों ने हमारा जी—भरकर स्वागत किया।

IMG_20140812_080729

यहीं हमारे पासपोर्ट भी पहली बार जांचे गए, अब लगता है अपना देश जल्द ही छूटने वाला है …

IMG_20140812_082709

और हम भी अकेले कहां थे, यों आगे-पीछे ले जा रहे थे हमारे बोझ ढोते ये खच्चर, जैसे राह की मुश्किलों से इन्हें कुछ फर्क ही नहीं पड़ता हो ..

IMG_20140812_093108

इन अनजान राहों पर यों यात्रियों का मिल जाना, वो तिब्बत से कैलास दर्शन कर लौट रहे थे, उनकी आंखों में तसल्ली की बड़ी—बड़ी क्यारियां खड़ी थीं और हमारे दिलों से लेकर आंखों तक में सिर्फ उत्सुकता टंगी थी …

IMG_20140812_101406

अगली मंजिल  है Garbhyang,  जमीन में धंसता, अपनी हस्ती को लगातार खो रहा गांव। हालांकि, बीती दो सदी में भी कैलास—मानसरोवर के प्राचीन यात्रियों के लिए भी यह गांव बहुत महत्वपूर्ण रहा है। यहीं से वे आगे के सफर के लिए राशन जुटाते थे, पोर्टर का प्रबंध किया करते थे और घोड़े-खच्चरों का इंतज़ाम भी यह गांव कर देता था। हमारी यात्रा में प्राचीनता का वो पुट तो नहीं रहा, क्योंकि केएमवीएन ने हमारे लिए ये सारे इंतज़ाम धारचूला में ही कर दिए थे, मगर हमने इसे ‘समोसा प्वाइंट’ के तौर पर पहचाना। भूखे-प्यासे पेट, पिछले कई घंटों से चल रहे यात्रियों का हमारा पूरा दल यहां समोसों पर टूट पड़ा..

IMG_20140812_103051

और फिर से पासपोर्ट की जांच, फिर हमारे नाम दर्ज करने की प्रक्रिया, वाकई बहुत व्यवस्थित है कैलास—मानसरोवर यात्रा

KMY-2 737

KMY-2 742

और एक बार फिर घोड़ों पर लद गए हैं, ऐसे सीधे—सपाट रास्ते बहुत कम हैं जिन पर घोड़े की सवारी में डर न लगे। वरना तो पूरे रास्ते अपनी काठी टेकते, पैरों को उठाते, सांस समेटते, काया को संभालते हुए ही लाना पड़ा है

KMY-2 756

गुंजी तक के इस रास्ते तक पहुंचते—पहुंचते हम भी चलने में माहिर हो गए हैं और हमारी काया भी अभ्यस्त हो चली थी।

KMY-2 774

चलना ही जैसे मूलमंत्र था, चलना ही मुझे मेरी ​मंजिल तक ले रहा था…

KMY-2 860

शेष यात्रा अगली पोस्ट में ……

 

 

 

 

 

Advertisements