Want to go for Siachen trek? Indian Army does the handholding on glacier walk!

सियाचिन ग्लेश्यिर ट्रैक का ख्वाब आंखों में सजाकर स्नाउट पहुंच ही गई!

Siachen snout - from where begins the long and arduous trek

Siachen snout – from where begins the long and arduous trek

और हमारा उत्साही कारवां बढ़ चला …

base camp to half Link 11 sep 025

हिमानियों के गर्भ से नदियों के जन्म लेने की प्रक्रिया नजदीक से देखनी हो तो स्नाउट से आगे बढ़ चलिए, कैसे कतरा-कतरा बर्फ पिघलकर बूंदों को समेटती हुई एक नदी की काया में बदलती है, यह साक्षात देखने को यहां मिलेगा।

The birth of River Nubra at snout

नुब्रा घाटी से ही जैसे इंसानी संसार से नाता टूटने लगता है और एक अद्भुत, अविश्‍वसनीय, अकथनीय, संसार से संवाद शुरू हो जाता है।

and begins the journey - of Nubra

And begins the journey – of Nubra

और बूंदों को अपने आगोश में भरकर नुब्रा धीमे-धीमे बेस कैंप की तरफ बहने लगती है

stone cairns built by travelers from time immemorial to mark the route

Stone cairns built by travelers from time immemorial to mark the route

दूर अथाह विस्तार तक सिर्फ मोरेन दिखायी दे रहा था। उसी मिट्टी, पत्थर, चट्टानों और बीच-बीच में दबी-छिपी बर्फ के मिश्रण यानी मोरेन पर चलने का साक्षात अनुभव मिला।

base camp to half Link 11 sep 038

Besides the cold, dry, arid wind blowing between Karakoram and Saltoro , Indian Army jawan is a constant companion

करीब 25 बरस पहले जहां बेस कैंप तक स्‍नाउट हुआ करता था अब वहीं करीब 16,000 फुट तक मोरेन दिखता है। असली बर्फानी विस्‍तार तो इतनी उंचाई के बाद शुरू होता है !

Moren greets the trekkers on long stretches

Moren greets the trekkers on long stretches

सियाचिन सभ्यता से दूर सही, मगर एकाकी नहीं है। हिंदुस्तान की सेना के मतवाले जवानों की मुस्तैदी आपका मन मोह लेती है। यहां के आसमान पर हेलीकाॅप्टरों की निगरानी आपको सुरक्षा बोध से भर देगी।

Siachen Pioneers (Helicopter unit of IA) scanning the heights

Siachen Pioneers (Helicopter unit of IA) scanning the heights

हर सांस आपकी ऊर्जा का आखिरी कतरा तक निचोड़ लेती है और सुस्ताने के लिए मोरेन पर ही पसरना अखरता नहीं

base camp to half Link 11 sep 062

सदियों पुरानी काली बर्फ की ऊंची-मोटी दीवारें डरावने अंदाज़ में दाएं-बाएं दिख रही थीं, हमारी दायीं तरफ खड़ा था ऊंचा, पथरीला, भूरा-नंगा पहाड़ और इसी की फुटहिल के सहारे-सहारे नुब्रा का तेज प्रवाह था। नुब्रा यहां महा-शैतान है, बीच-बीच में बहती बर्फीली चट्टानें या बड़े-बड़े बर्फानी पत्थर सचमुच खतरनाक थे।

Age old ice on the glacier

ग्लेश्यिर के मुहाने पर नदी का जन्म होते देखना अपने आप में अनूठा अनुभव है।

and your heart can skip a beat at such sights

And your heart can skip a beat at such sights

सियाचिन पर मोरेन पार करते-करते जब बर्फ की पहली झलक मिलती है तो उखड़ती सांसों के बावजूद तसल्ली का अहसास खास होता है

base camp to half Link 11 sep 096

बेस कैंप से कैंप 1 तक का रास्ता करीब पांच-छह घंटे की ट्रैकिंग में पूरा होता है, आधे रास्ते पर है हाफ लिंक

at Half link between Base camp & Camp I

At Half link between Base camp & Camp I

बर्फ, बर्फ और चारों तरफ सिर्फ बर्फ … इस एकांत में हवाओं की सरसराहट को सुनना और खुद से ही बातें करना सबसे बेहतर काम होता है ट्रैकर्स के लिए।

An aerial view of Siachen Glacier

सियाचिन का बर्फानी विस्तार

the river of ice called Siachen

The river of ice called Siachen

इस बर्फीले दरिया को हेलीकाॅप्टर की खिड़की से देखना जिंदगी का अद्भुत अनुभव था

another aerial shot

Another aerial shot

एक्लीमटाइज़ेशन के अभाव में इतनी ऊंचाई पर पहुंचना घातक हो सकता है।

Layers of clothing and oxygen mask to survive those relentless heights

सियाचिन का हर सैनिक ओ.पी.बाबा को इस ग्‍लेशियर के लोकपाल देवता के रूप में पूजता है और यहां प्रत्येक कार्य के प्रारंभ में तथा उसके संपन्न होने के बाद ओ.पी.बाबा का आशीर्वाद लेना नहीं भूलता।

temple of OP Baba - do not forget to take the blessings

Temple of OP Baba – do not forget to take the blessings

जिस तरह सियाचन का विस्तार और इसके गहरे क्रिवास अपने मूल में बहुत कुछ रहस्य छिपाए हुए हैं, उसी तरह यह भी एक रहस्य ही है कि ओ.पी.बाबा कौन थे। कहते हैं इस किंवदन्ती का जन्म अस्सी के दषक के अंत में नॉर्दर्न ग्लेश्यिर के बिला कॉम्प्लैक्स की मालौन पोस्ट पर तैनात सैनिक ओमप्रकाष से जुड़ा है। लेकिन वास्तव में, इस नाम का कोई सिपाही उस वक्त वहां तैनात भी था या नहीं, इसकी पुष्टि नहीं की जा सकी है। और न ही ऐसा कोई कारण गिनाया जाता है कि ओमप्रकाश को कैसे ओ.पी.बाबा का दर्जा हासिल हुआ।

DSC01231

सियाचिन ग्लेश्यिर पर हर छोटे-बड़े अभियान, रूटीन तैनातियों, सैनिकों की वापसी और यहां तक कि नियमित अभ्यास कार्यों से पहले ओ.पी.बाबा की बाकायदा अनुमति और आशीर्वाद लिए बगैर किसी भी महत्वपूर्ण काम की शुरूआत नहीं की जाती। और हर कार्य के संपन्न होने के बाद बाबा के मंदिर में दर्शन करने जाने पर ही कार्य की पूर्णता मानी जाती है।

photo credit - Shammi Arora

photo credit – Shammi Arora

क्रिवासों, खाइयों और दूसरी कई छोटी-बड़ी परेशानियों से यहां वास्ता पड़ चुका था।

One can enjoy the company of their own solitude

आगे की राह थोड़ी और एडवेंचरस होने जा रही थी… दरअसल, अब हम कुछ चढ़ाई पर आ चुके थे और ट्रैकिंग रूट पर बर्फ बढ़ गई थी।

Photo credit - Shammi Arora

Photo credit – Shammi Arora

अब ग्‍लेशियर के सीने पर वो बड़ी-बड़ी दरारें दिखायी देने लगी थीं जिनकी वजह से आगे बढ़ना नामुमकिन न सही मगर टेढ़ा जरूर हो गया था।

crevice crossing

Crevice crossing

सियाचिन की काया पर जैसे-जैसे आगे बढ़ते हैं, उसी हिसाब से उलझनें बढ़ने लगती हैं। क्रिवासों की चुनौतियों से लेकर अपना ही “ारीर ‘ढोना’ किसी मुसीबत से कम नहीं रह जाता। और तब इंडियन आर्मी का यह मजबूत हाथ सहारा बनता है!

Crampons, stick and hand holding of our trek leader made it possible

Crampons, stick and hand holding of our trek leader made it possible

बर्फ के दरिया पर आगे का सफर दुरूह होने जा रहा था, हम सभी को इसका अहसास था। ऐसे में फुर्सत और फोटोग्राफी के ये पल तन और मन को हल्का बना गए ..

some lighter moments

Some lighter moments

Advertisements

22 thoughts on “Want to go for Siachen trek? Indian Army does the handholding on glacier walk!

  1. Beautiful pics and well written blog.I would like to know the details about the trek.How can one join this trek,fitness level required and the detailed preparation for the same.Thank you in advance.

    Like

  2. Dear Nilesh

    Thank You so much! I am glad you liked the literary journey on Siachen. You can read another post on Siachen filed under Leh, Ladakh & Siachen category (see right hand side on the blog for all categories) to know more. Here is the link – http://wp.me/p2x9Ol-24

    I hope this post will answer all your queries and a lot more! However you are always welcome to reach me for other details via my email as well – alkakaushik2010@gmail.com

    Like

  3. Pingback: Incredible India: pictures and videos - Page 24

  4. Congratulations very nice alka ji, well written with pic’s, i am all interested to go this journey if it happen again in any time
    1 Q is this happen every year or what ?
    can u help

    Like

    • normally Army adventure wing invites applications for this trek sometime in July and trek is organised in sep every year. please checkout the website link for further detail. It is free of cost for Indians but very few seats make it a sort of once in a lifetime opportunity – http://tinyurl.com/lrspacn

      Like

  5. This article is the ultimate in travel writing. I say so because Siachen is the highest battle field in the world and it is not easy to trek to that place. I liked each word and each photo. Thanks for almost taking me there. I salute our ever brave army men. I also salute Alka Kaushik for the touching article.

    Like

  6. Congrats for undertaking such a treacherous journey. I have worked in Leh and very well understand how difficult it is to complete such a difficult task…..

    Like

  7. Alka Koushik madame,
    great!. feel proud to be part of a highly talented couple KMY 2015 batch 15. Siachen treck and photos are excellent. Murty & Uday

    Like

  8. Dear Alka,

    I doesn’t belong to any of the category of defence forces, media, Rashtriya Indian Military College and Rashtriya Military School cadets and trekking enthusiasts recommended by the Indian Mountaineering Foundation (IMF) but being a free soul and hard-core traveller/trekker, I have a strong zeal to visit siachen glacier once in my lifetime. Therefore, I, would kindly request you to guide me to seek permission for siachen glacier trek. Kindly msgs me on my mailid shilpi2703@gmail.com, if you can provide any help and guidance. This is for your necessary information that I have already done many treks in the past, ofcourse not as dificult as siachen, but I have firm believe in me, That I can do that too.

    Like

  9. Outstanding write up. Great pictures. Almost got transported to Siachen.. I was a bit unsure of participation, however, having read your excellent description, now strongly motivated to take part in 2016 edition. Thanks

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s