Rann Utsav – a Picture Essay!

गुजरात के सफर में बिग बी आपके साथ होते हैं, वर्चुअली ! रन उत्सव के लिए सजी-धजी खड़ी धोरडो टैंट सिटी की ओर बढ़ते हुए यह अहसास लगातार साथ बना रहता है। कभी ड्राइवर रावजीभाय के मुंह से तो कभी राह चलते राहगीर से रास्ता पूछने के लिए रुकने-रुकाने के क्रम में ’बच्चन साहब का कमाल है‘ सुनाई देता ही रहा। वाकई, गुजरात सैलानियों की पदचाप से कुछ हद तक छिटका हुआ रहा है। हैरान हूं मैं कि भौगोलिक आकार में इतना बड़ा राज्य अपने सीने में इतने ढेरों राज़ (हड़प्पा कालीन भग्न शहरों के अवशेष इस राज्य के लोथल और धौलावीरा में मिले हैं ) और इतनी विविधता को कैसे और क्यों छिपाता आया है अब तक! केरल सरीखे नन्हे राज्य ने Incredible India (http://www.incredibleindia.org/) के टैग के सहारे सैर-सपाटे की दुनिया में बीते सालों में नाम कमाया और वहीं गुजरात जैसा प्रदेश है जो शयद पब्लिसिटी के अभाव में अपने टूरिस्ट स्थलों को भुनाने से चूक गया। बहरहाल, देर आए दुरुस्त आए की तर्ज पर अब गुजरात अपने फर्राटा राजमार्गों की ही तरह टूरिज़्म सर्किट पर भी दौड़ने लगा है।

rann-festival 066
Tent City @Dhordo in Bhuj

लिहाजा, कच्छ के रन में अब चांदनी रातें गुमनाम नहीं रह गई हैं। सूरज धौलावीरा से लेकर धोरडो तक और भुज से लेकर एकल के रन तक पर जब अपनी झिलमिलाहट बिखेरता है, तो कइयों की यादों और इलैक्ट्रॉनिक डिवाइसों में सज रहे होते हैं वो पल!

092

गुजरात टूरिज़्म की पहल रन उत्सव ने दूर-दराज के सैलानियों को सफरी बैग बांध लेने का न्योता भेजा है। कभी महज़ 3 दिन के लिए आयोजित होने वाला रन उत्सव लोकप्रियता के कई पायदान लांघकर अब तीन महीने तक सजने लगा है। इस बार 14 दिसंबर से 18 मार्च ’14 तक सफेद रन की नमकीन चादर पर कई अहसास सज-संवर रहे हैं।

Chakda ride in tent city

Chakda ride in tent 

सफेद रन का विस्तार करीब साढ़े सात हजार वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल में है, और इसी नमकीन रेगिस्तान में भुज से लगभग 80 किलोमीटर दूर सजती है रन उत्सव नगरी। टैंट नगरी में छकड़ा राइड से लेकर क्राफ्ट बाज़ार, फूड बाज़ार तथा जादू के तमाशों के बीच कच्छी-गुजराती लोक धुनों के रस में डूबते-उतराते रहते हैं सैलानी।

tent city on white Rann in Dhordo village

tent city on white Rann in Dhordo village

कच्छ के सफेद रन का नाता साइबेरिया तक है! हैरत में हैं न आप कि वो कैसे ? दरअसल, साइबेरियाई राजहंस (Flamingo ) बर्फीली सर्दियों से बचकर इन दिनों गुजरात के तट पर उतरते हैं, अपनी नई – नवेली पीढ़ी तैयार करते हैं और फिर जैसे ही रन में तपिश की आहट होती है, वापस अपनी चिर-परिचत सफेदी की ओर लौट जाते हैं।

flamingo colony near Dholavira (Kutch)

flamingo colony near Dholavira (Kutch)

रन उत्सव के बहाने भारत-पाक बॉर्डर तक भी जाने का मौका मिलता है। अलबत्ता, इस संवेदनशील इलाके तक पहुंचने के लिए यात्रियों को परमिट लेना होता है जो भुज के जिला कलेक्टर के दफ्तर से जारी किया जाता है। रन उत्सव में आने वाले टूरिस्टों के लिए गुजरात टूरिज़्म इंडो-पाक बॉर्डर टूर पैकेज के तहत् खुद ही इस परमिट का बंदोबस्त करता है। 650 रु प्रति व्यक्ति के खर्च पर कच्छ की सरजमीं से होते हुए देश की पश्चिमी सरहद तक का सफर भी कम दिलचस्प नहीं होता।

your quick guide for the tent city

your quick guide for the tent city

शाम-ए-सरहद कुछ इस अदा से बीतती है थार रेगिस्तान के सफेद रन पर!

You will always cherish the memory of sunset @white Rann

You will always cherish the memory of sunset @white Rann

क्षितिज से सूर्य का मिलन होने की देर होती है और रन कुछ कंपकंपाने भी लगता है।

IMG_7157रन पर गहराती सांझ को यादों में पसरने, बिखरने, सहेजने, सिमटने के कुछ नायाब पलों को बिताकर हमारे अनमने से कदम लौटने लगे हैं। मगर मेरे मन का एक कोना रन के नमक के बीच कहीं उलझकर रह गया है।

An evening @Rann

An evening @Rann

दिनभर उषा रश्मियों से झिलमिलाते रन पर चांदनी उतरने को है, कुछ कदम लौटने लगे हैं तो कुछ कारवां अब चांदनी रात में रन की चकाचैंध के साक्षी बनने इस ओर बढ़ रहे हैं।

rann-festival 009

Advertisements