amitabha nunnery where girls live beyond barriers !

 

 

 

 

चीनी कहावत है ’’दस हजार पोथियों से बेहतर है दस हजार कदमों का सफर” (Walking ten thousand miles of the world is better than reading ten thousand scrolls.) और यही इस दास्तान-ए-घुमक्कड़ी की प्रेरणा भी है। हालांकि मुझे नहीं लगता था कि इस बार इतनी जल्दी सफर पर निकल पाऊंगी, नागालैंड के मिथकों को सुनकर अभी पिछले महीने ही तो लौटना हुआ था लेकिन पैरों में ही शनिच्चर पड़ा हो तो कौन-कब रुका है। इस बार मंजिल भी कहीं आसपास नहीं बल्कि हिमालयी पर्वतश्रृंखलाओं से घिरी काठमांडौ घाटी बनी, और बहाना भी घुमक्कड़ी नहीं बल्कि काम बन गया। यानी एक बार फिर सूटकेस लाद लेना अपराध बोध को जन्म नहीं देने वाला था!

नेपाल के त्रिभुवन अंतराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर कुंग्फू नन हमारे इंतज़ार में थीं, अध्यात्मिकता की खुराक के साथ-साथ मेहमानों को लेने या विदा करने के लिए वे अक्सर इस हवाईअड्डे तक आती-जाती रहती हैं। हमें देखते ही मिग्युल ने अपने स्मार्टफोन को अपने मैरून चोगे की जेब में डाला और सिल्क के स्कार्फ हमें पहनाने में जुट गई। विदेशी सरजमीं पर ऐसा स्वागत हमें अभिभूत कर गया!

IMG_6407

अमिताभ ननरी, काठमांडौ , नेपाल में मुझे बार-बार कुछ नाम सुनायी दे रहे थे – जिग्मे, देचिन, वांग्चुक, मिग्युल … और इस ननरी में 36 घंटे गुजारने के बाद यह साफ हो गया था कि ये महज़ नाम नहीं थे बल्कि उस ननरी में ’कर्म चक्र‘ को घुमा रही वो युवतियां थीं जो जिंदगी की आगे की राह को लेकर किसी किस्म की पसोपेश में नहीं थीं। 10 से 60 साल तक की इन ननों के लिए द्रुकपा लीनिएज के प्रमुख परमपूज्य ग्वालयांग दु्रकपा ने अमिताभ माउंटेन में यह खास रिहाइश बसायी है।

IMG_6063

IMG_6095

कुंग-फू नन रसोईघर की कमान संभालने में भी पीछे नहीं

आम धारणा से अलग ये नन सिर्फ धर्म शिक्षा नहीं ले रही हैं बल्कि कुंग-फू भी सीखती हैं। तिब्बती के अलावा अंग्रेज़ी भाषा भी उनकी पढ़ाई का हिस्सा है और कंप्यूटर शिक्षा तथा दर्षन भी उन्हें पढ़ाया जाता है।

IMG_6214

यानी उनका सफर है मेडिटेशन से मार्शल  आर्ट तक, अध्यात्म से सेवा-सत्कार तक जिसे सवेरे 3 बजे से रात 11 बजे तक उनके कोमल हाथ और मजबूत हौंसले अंजाम देते रहते हैं।

IMG_6288

कुंग-फू नन

IMG_6315

IMG_5974 IMG_5987 IMG_5985

वे इस ननरी के बैकयार्ड में बगीचे की कमान संभालती हैं तो अगले भाग में सुविनर शॉप और कैफे का संचालन भी करती हैं। यहां तक कि ननरी में ही क्लीनिक और गैस्ट हाउस की पूरी देख-रेख का जिम्मा भी उनके कंधों पर है।

IMG_6041

IMG_6044

किसी कार्पोरेट एग्ज़ीक्युटिव से कम नहीं हम

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s